अध्ययन में उच्च सफलता दिलाता है गणेश रुद्राक्ष

वर्तमान समय में सफलता का मापदण्ड यही माना जाता है कि व्यक्ति के समीप स्वयं की आवश्यकताओं की पूर्ति हेतु पर्याप्त सुख—सुविधाएँ उपलब्ध हों| उसके पास अच्छा घर, अच्छा वाहन और समाज में उसकी पूर्ण मान-प्रतिष्ठा हो| यह सफलता उसे तभी प्राप्त हो सकती है, जब व्यक्ति अपने अध्ययन काल में श्रेष्ठ रहा हो| अध्ययनकाल […]

Continue Reading

अग्नि की लपटों से भविष्य

प्राचीन काल से ही अग्नि का धार्मिक महत्त्व रहा है| यह दैनिक आवश्यकता की एक वस्तु तो थी ही, साथ ही इसे एक देवता के रूप में भी पूजा गया| यही कारण है कि इसे भी भविष्य बताने वाले एक साधन के रूप में प्रयुक्त कर लिया गया| अग्नि से भविष्यकथन की विधा आधुनिक नहीं […]

Continue Reading

प्यार पाना चाहते हैं, तो उपहार में दें गौरी-शंकर रुद्राक्ष

वेलेन्टाइन-डे एक ऐसा दिन है, जिस दिन हर प्रेमी अपनी प्रेमिका को अधिकतम ख्ाुशी देने तथा इस दिन का प्रत्येक क्षण अपने साथी के साथ बिताने, उसे ख्ाुशी से जीने की ख्वाहिश रखता है| इन्टरनेट, मोबाइल आदि कम्यूनिकेशन के विस्तृत साधन, स्त्री शिक्षा तथा सह-शिक्षा के कारण भारत में पाश्‍चात्य देशों की भॉंति ही प्रेम […]

Continue Reading

अंक ज्योतिष का अनोखा भविष्यवक्ता

अंक मनुष्य को प्रभावित करते हैं| यह तथ्य अत्यन्त ही पुराना है| मेरा भी विश्‍वास यही रहा है| इसलिए मैं अपने भाग्यशाली और दुर्भाग्यशाली अंकों के बारे में विचार किया करता था| मेरा विवाह होने के पश्‍चात् समय बिल्कुल विपरीत हो गया| पत्नी से लगातार वैचारिक मतभेद रहने लगे| विवाह के एक माह पश्‍चात् ही […]

Continue Reading

अंक 8 के रहस्यमयी विधान

शृंखला के विगत लेखों में 1 से 7 मूलांकों का अध्ययन करने के पश्‍चात् प्रस्तुत लेख में मूलांक 8 के फलों का वर्णन किया जाएगा| जिन व्यक्तियों के जन्मदिनांक का कुल योग 8 होता हो, उन व्यक्तियों का मूलांक 8 होता है| जैसे किसी की जन्मतिथि 9.4.1966 है, तो उसका सम्पूर्ण योग 8 होगा| मूलांक […]

Continue Reading

अंक 7 के रहस्यमयी विधान

एक से लेकर छह अंकों के रहस्यमयी विधान को जानने के पश्‍चात् प्रस्तुत लेख में अंक 7 के रहस्यमयी विधानों को उल्लिखित किया जाएगा| जिस जातक की जन्म दिनांक का योग अर्थात् दिनांक, माह एवं वर्ष का योग 7 होता हो, उस व्यक्ति का मूलांक 7 होता है| जैसे 5 सितम्बर, 1964 का योग (5+9+1+9+6+4=34, […]

Continue Reading

अंक 6 के रहस्यमयी विधान

अंक 6 का अधिष्ठाता ग्रह शुक्र है| जिन व्यक्तियों के जन्म दिनांक का योग (अर्थात् जिनकी जन्मतिथि + माह + सन् का योग) जोड़ने पर 6 अंक शेष रह जाता हो, तो उनका मूलांक 6 होता है| इसके अतिरिक्त जिनका जन्म 6 अंक के अवधिकाल में अर्थात् 20 अप्रैल से 27 मई तथा 21 सितम्बर […]

Continue Reading

अंक 5 के रहस्यमयी विधान

यदि आपकी जन्मतारीख, माह तथा सन् का योग 5 होता हो, तो मूलांक 5 समझना चाहिए| जैसे किसी व्यक्ति का जन्म 25.01.1968 हो, तो इस दिनांक का पूर्ण योग अंक 5 होगा| इसलिए इस दिनांक में जन्मे व्यक्ति का मूलांक 5 होगा| इनके जीवन पर बुध का वर्चस्व रहता है| मूलांक 5 वाले व्यक्तियों के […]

Continue Reading

अंक 1 के रहस्यमयी विधान

अंक 1 सूर्य का प्रतिनिधित्व करता है, इसलिए इस अंक से प्रभावित व्यि?तयों पर सूर्य का प्रभाव अधिक होता है?| सामान्यत: 1, 10, 19, 28 तारीखों में जन्म लेने वाले व्यि?तयों को 1 अंक से प्रभावित माना जाता है, लेकिन इनके अतिरिक्‍त जिनकी जन्म दिनांक का कुल योग 1 होता हो, वे भी इस अंक […]

Continue Reading

40 दिन चला था राम-रावण महायुद्ध

Published : October, 2008 आश्‍विन शुक्ल दशमी अर्थात् ‘दशहरा’ को जिस युद्ध की परिणति भगवान् राम की विजय के रूप में हुई, वह युद्ध ४० दिन तक चला था| सेतुबन्ध के उपरान्त भगवान् राम सेना सहित पौष माह के अन्त में लंका पहुँच गए थे| माघ कृष्ण पक्ष में अंगद दूत बनकर रावण की सभा […]

Continue Reading