ऐसे प्राप्त की मेघनाद ने अमोघ शक्तियॉं

राम-रावण युद्ध में रावण के पुत्र मेघनाद ने तीन बार भगवान् राम और उनकी सेना को संकट में डाल दिया था| इन्द्र पर विजय प्राप्त करने वाला मेघनाद अपने पिता से भी अधिक शक्तिशाली था| उसने ये शक्तियॉं ७ यज्ञों का अनुष्ठान करके प्राप्त की थीं| लंका में निकुम्भिला उपवन में उसने एक मन्दिर का […]

Continue Reading

ऐसी थी भगवान् की व्यूह रचना

तीनों लोकों के विजेता राक्षसराज रावण पर विजय प्राप्त करने के लिए भगवान् श्रीराम ने समय-समय पर सेना की विभिन्न प्रकार से व्यूह रचना की| उस विशाल वानर-ॠक्ष-लंगूर सेना का प्रबन्धन करना ही बड़ा कठिन था| तुलसीदासजी कहते हैं कि उस सेना में 18 पद्म तो यूथपति ही थे| महर्षि वाल्मीकि के अनुसार नील की […]

Continue Reading

क्या विजयादशमी के दिन हुआ था रावण वध

शरद् ॠतु के अवतरण की घोषणा करते हुए नवरात्र जैसे ही आते हैं, तो साथ ही रामलीला की गूँज और गरबा जैसे नृत्यों की बहार को भी साथ लाते हैं| इन नवरात्र में अपनी कुल परम्परा के अनुसार देवी का पूजन किया जाता है| भगवान् राम के पूजन की परम्परा ने भी पिछले काफी समय […]

Continue Reading

अक्‍टूबर, 2018 के व्रत-पर्व

विजयादशमी (18-19 अक्टूबर, 2018) आश्‍विन शुक्ल दशमी विजयादशमी के नाम से जानी जाती है| भगवती के विजय नाम के कारण इसे ‘विजयादशमी’ कहा जाता है| यह भी कहा जाता है कि इस दिन भगवान् राम ने रावण पर विजय प्राप्त की थी| इसी कारण आश्‍विन शुक्ल दशमी को विजयादशमी कहा जाता है| विजयादशमी नवरात्र पारण, […]

Continue Reading

मीन राशि

मीन (दी, दू, थ, झ, भ, दे, दो, चा, ची) मीन राशि वालों के लिए गुरु का वृश्‍चिक राशि मे गोचर उनकी जन्मराशि से नवम भाव में रहेगा| नवम भाव में गुरु का गोचर सामान्यत: शुभफलदायक रहता है| विभिन्न क्षेत्रों में गुरु के इस शुभ गोचर के निम्नानुसार फल प्राप्त होंगे : सामान्य फल : […]

Continue Reading

कुम्भ राशि

कुम्भ (गू, गे, गो, सा, सि, सू, से, सो, दा) कुम्भ राशि वालों के लिए वृश्‍चिक राशि में गुरु का गोचर जन्मराशि से दशम भाव में रहेगा| दशम भाव में गुरु का गोचर प्राय: मध्यम फलप्रद रहेगा| इस राशि वालों के विभिन्न क्षेत्रों में गुरु के गोचरफल निम्नानुसार रहेंगे : सामान्य फल : जन्मराशि से […]

Continue Reading

मकर राशि

मकर (भो, जा, जी, जू, खी, खू, खो, गा, गी) मकर राशि वालों के लिए गुरु का वृश्‍चिक राशि में गोचर उनकी जन्मराशि से एकादश भाव में होगा| एकादश भाव में गुरु का गोचर प्राय: शुभफलदायक रहेगा| इस राशि वालों के लिए वृश्‍चिक राशि में गुरु के गोचरफल विभिन्न क्षेत्रों में निम्नानुसार रहेंगे : सामान्य […]

Continue Reading

धनु राशि

धनु (ये, यो, भा, भी, भु, धा, फ, ड, भे) धनुराशि वालों के लिए गुरु का वृश्‍चिक राशि में गोचर जन्मराशि से द्वादश भाव में रहेगा| द्वादश भाव में गुरु का गोचर अशुभ फलप्रद होता है| इस राशि वालों के लिए गुरु का वृश्‍चिक राशि में गोचर विभिन्न क्षेत्रों में निम्नानुसार फल प्रदान करेगा : […]

Continue Reading

वृश्‍चिक राशि

वृश्‍चिक (तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू) वृश्‍चिक राशि वालों के लिए गुरु का वृश्‍चिक राशि में गोचर उनकी जन्मराशि में होगा| जन्मराशिस्थ गुरु का गोचर मिश्रित फलदायक होता है| इस राशि वालों के लिए विभिन्न क्षेत्रों में गुरु के सिंह राशि में गोचर के फल निम्नानुसार रहेंगे : सामान्य फल : […]

Continue Reading

तुला राशि

तुला (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते) तुला राशि वालों के लिए गुरु का वृश्‍चिक राशि में गोचर उनकी जन्मराशि से द्वितीय भाव में होगा| द्वितीय भाव में गुरु का गोचर शुभफलप्रदायक होता है| तुला राशि वालों के लिए विभिन्न क्षेत्रों में गुरु का गोचरफल निम्नानुसार होगा : सामान्य फल : जन्मराशि […]

Continue Reading