February-2020

पिछले अंक मैगजीन

खोज-खबर
08 स्वयं गंगा मैया करती है शिवलिंग का जलाभिषेक!
08 दिन में तीन बार रंग बदलता है शिवलिंग!
09 सागर की गोद में चला जाता है शिव मन्दिर!

मंगलदोष पर विशेष
15 कौन है ‘मंगली’?
17 क्या होता है मंगलदोष से?
21 कौन नहीं है ‘मंगली’?
22 कैसे करें मंगलदोष का मिलान?
26 मंगली मिलान के सम्बन्ध में बी.वी. रमन की आंकिक पद्धति
27 मंगलदोष निवारण का उपाय
28 कैसे करें मंगलदोष का शमन?

ज्योतिष एवं वास्तु
30 फलित ज्योतिष : आसमान से ऊँचा कद, गिरकर जमीन पर कैसे टूट गया?
34 फलित ज्योतिष : विपरीत परिस्थितियों को भोगने के बाद प्राप्त होने वाला राजयोग
35 अध्यात्म ज्योतिष : पिण्ड, ब्रह्माण्ड और ज्योतिष
38 फलित ज्योतिष : कितनी संतान और कब होगी?
39 गोचर : क्या है शनि ढैया और क्यों शनि ढैया में विशेष हो जाते हैं?
42 फलित ज्योतिष : स्त्रीजातक विशेष योग
43 फलित ज्योतिष : अष्टम भावस्थ केतु और उसका जीवन पर प्रभाव
70 वास्तुशास्त्र : बगदादी के घर का वास्तु-विश्‍लेषण! (हत्या-आत्महत्या और वास्तुदोष)
78 उडुदायप्रदीप मीमांसा : योगकारक ग्रहों की अन्तर्दशाओं एवं राहु-केतु की दशा के फल
82 कैसे करें सटीक फलादेश? सिंह लग्न के अष्टम भाव में स्थित सूर्य के फल
महाशिवरात्रि (21 फरवरी) पर विशेष
10 मनोकामना पूर्तिकारक रुद्राभिषेक
12 भगवान् शिव की कृपा प्राप्त करने का श्रेष्ठ साधन है रुद्राक्ष
68 शिवतत्त्व विवेचना

पर्व, जयन्ती, धर्म एवं अन्य
31 परामनोविज्ञान : योगविद्या और त्रिकाल दर्शन
49 जयन्ती : आर्य समाज के संस्थापक स्वामी दयानंद
72 राघवयादवीयम्
74 भक्ति : राम-रसायन
89 जयन्ती : महाकाली के उपासक रामकृष्ण परमहंस शास्त्र मात्र अपवाद हैं, रामकृष्ण उनकी प्रत्यक्ष अनुभूति
स्थायी स्तम्भ
06 पाठक मंच
07 अपनी बात
46 मंथ प्लानर
50 मासिक पंचांग
52 दैनिक निरयण ग्रहस्पष्ट
53 मुहूर्त सागर
83 सन्तगाथा : बाल ब्रह्मचारी सन्त बाबा रामनाथ जी
77 मानसपीठ : भरत जी की चित्रकूट यात्रा
81 पुराण-पुरुष : खाण्डिक्य
84 मासिक राशिफल
87 नि:शुल्क ज्योतिष परामर्श
90 इन्द्रधनुष : ज्योतिषी की डायरी : सप्तम भाव में तीन ग्रहों की युति का फल
90 इन्द्रधनुष : नीति अमृत : भाग्य की प्रबलता
90 इन्द्रधनुष : स्तोत्रावली : मृत्युंजय स्तोत्र
91 इन्द्रधनुष : विदुर नीति : काम-क्रोध ज्ञान को लुप्त कर देते हैं
91 इन्द्रधनुष : जातक पंजिका
92 पाथेय : वचनामृत : परमात्मा से सहज मिलन
92 पाथेय : उपनिषद्सार : परमेश्‍वर ही सबके प्राण हैं
92 पाथेय : भजनामृत : सदाशिव सर्व वरदाता…
93 पाथेय : कबीरवाणी : मनुष्ययोनि में ही मोक्ष सम्भव
94 फरवरी, 2020 में जन्मे बच्चों के नामाक्षर, पायादि का ज्ञान
96 तीर्थयात्रा : ‘शाम्भव नगरी’ है भुवनेश्‍वर