कैसा रहेगा मकर का शनि वृषभ राशि के लिए?

Saturn Transit
वृषभ राशि
(ई, ऊ, ए, ओ, वा, वि, वु, वे, वो)

वृषभ राशि वालों के लिए मकर का शनि राहतकारी सिद्ध होना चाहिए। अब उन्हें अष्टम ढैया से निजात मिलेगी, परन्तु समय बहुत अधिक अनुकूल नहीं है। कार्यों में बाधाएँ एवं आकस्मिक समस्या के चलते यह गोचरावधि कुछ हद तक मानसिक तनाव उत्पन्न कर सकती है।
स्वास्थ्य की दृष्टि से मकर राशि में शनि का गोचर आपके लिए बेहतर फलप्रद रहना चाहिए। पूर्व में चली आ रही स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएँ काफी हद तक कम होंगी। इस सम्बन्ध में राहत की सॉंस मिलेगी। आत्मविश्‍वास और मनोबल बढ़ेगा तथा नकारात्मक विचारों में कमी आएगी। दुर्घटना आदि की आशंका भी कम होगी।
पारिवारिक सुख की दृष्टि से भी शनि का यह गोचर आपके लिए राहतकारी सिद्ध होना चाहिए। गृहक्लेश आदि में काफी हद तक कमी होगी। घर में मांगलिक कार्यों के अवसर आएँगे। विवाहयोग्य युवक-युवतियों का विवाह भी सम्भव होगा। सामाजिक मान-प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। धार्मिक-सामाजिक एवं परोपकारी कार्यों में सक्रियता रहेगी।
आर्थिक दृष्टि से यह गोचरावधि विगत गोचरावधि की तुलना में बेहतर सिद्ध होनी चाहिए। आय के स्रोतों से नियमित आय प्राप्त होने लगेगी, वहीं आकस्मिक खर्चों पर भी अंकुश लगेगा, जिससे धनाभाव एवं आर्थिक संकट जैसी परिस्थितियॉं अब उतना परेशान नहीं करेंगी। ॠण आदि के जाल से निकलने के अवसर आएँगे। भूमि-भवन आदि में निवेश के योग भी बन रहे हैंै, परन्तु इस प्रकार का निवेश करते समय सावधानी रखने की आवश्यकता है।
कॅरिअर के क्षेत्र में मकर राशि में गोचर यद्यपि राहतकारी सिद्ध होगा, परन्तु अभी भी बहुत अनुकूल समय नहीं है। यह अवश्य है कि नौकरी में अपेक्षाकृत स्थिरता आएगी। अनपेक्षित स्थानान्तरण की आशंकाएँ कुछ हद तक कम होंगी। उच्चाधिकारियों से तनाव या कार्यों में बाधाओं जैसी समस्याओं में भी राहत का अनुभव होगा। फिर भी आपको अपने कार्यों एवं दायित्वों के प्रति गम्भीरता रखनी चाहिए तथा उन्हें समय पर सम्पन्न करने का प्रयास करना चाहिए और नियमों आदि का उल्लंघन करने से बचना चाहिए। साथ ही, अपने लक्ष्यों एवं दायित्वों को समय पर पूरा करना चाहिए। इस सम्बन्ध में लापरवाही न बरतें।
व्यवसायियों के लिए भी यह गोचरावधि राहतकारी सिद्ध होनी चाहिए। व्यवसाय में मन्दी से सम्बन्धित समस्याओं में राहत मिलेगी। फँसी हुई उधार का भुगतान भी होने लगेगा, जिससे आर्थिक स्थिति में भी राहत मिलेगी। ॠण आदि की समस्या भी काफी हद तक दूर होगी। साझेदारों आदि से सम्बन्धों में सुधार होगा। सरकारी निर्णयों से भी राहत मिलने के योग बन रहे हैं। फिर भी नियमों के उल्लंघन एवं जोखिमपूर्ण धननिवेश से बचना चाहिए।
शिक्षा एवं प्रतियोगिता परीक्षा की दृष्टि से भी समय राहतकारी है। विगत गोचरावधि में अध्ययन में जो बाधा एवं प्रतिकूल परीक्षा परिणामों के कारण निराशा हो रही थी, वह अब काफी हद तक दूर होगी और अध्ययन में कुछ हद तक प्रगति भी होगी। भाग्य का पूरा सहारा न मिल पाने के कारण अभी भी कुछ परेशानी रह सकती है। प्रतियोगिता परीक्षार्थियों को शुभ समाचारों की प्राप्ति होगी।
राहतकारी उपाय : जन्मराशि से नवम भाव में शनि का गोचर यद्यपि विगत गोचरावधि की तुलना में राहतकारी है, परन्तु इसके अन्य अशुभफलों में कमी लाने के लिए निम्नलिखित उपाय करने चाहिए :
1. पॉंच कैरेट अथवा उससे अधिक वजन का नीलम दाहिने हाथ की मध्यमा अंगुली में शनिवार के दिन धारण करना चाहिए।
2. सातमुखी रुद्राक्ष सोमवार अथवा किसी शुभमुहूर्त में गले में धारण करना चाहिए।
3. ॐ शं शनैश्‍चराय नम:। मन्त्र का यथासम्भव जप करना चाहिए।
4. सामाजिक एवं धार्मिक कार्यों-गतिविधियों में सक्रियता बढ़ानी चाहिए।
5. सन्तों एवं महात्माओं की सेवा में भी संलग्न होना चाहिए।
6. गौशाला एवं पशु-पक्षियों के लिए दान देना चाहिए।