कैसा रहेगा मकर का शनि धनु राशि के लिए?

Saturn Transit
धनु राशि
(ये, यो, भा, भी, भु, धा, फ, ड, भे)

धनुराशि वालों के लिए शनि का यह गोचर बहुत राहतकारी रह सकता है, यद्यपि साढ़ेसाती से मुक्ति नहीं मिल रही है। उतरती साढ़ेसाती का आरम्भ होगा, फिर भी इस गोचरावधि के दौरान आर्थिक समस्याएँ कुछ हद तक दूर हो सकती हैं, परन्तु स्वास्थ्य का पाया अभी भी प्रभावित रह सकता है। मान-सम्मान के सम्बन्ध में इस गोचरावधि में भी सतर्कता अपेक्षित है, इस सम्बन्ध में लापरवाही बरतना उचित नहीं रहेगा। कहते हैं कि उतरता शनि ‘मोहर’ लगाकर जाता है, जिसका स्मरण आगे तक रहता है।
स्वास्थ्य की दृष्टि से यह गोचरावधि मिश्रित फलदायक है। पूर्व में चली आ रही बीमारियॉं कुछ हद तक नियन्त्रित रहेंगी, परन्तु आकस्मिक रूप से आने वाली स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएँ परेशान कर सकती हैं। पैरों में चोट आदि की आशंका भी है, अत: वाहनादि चलाते समय विशेष सावधानी रखने की आवश्यकता है।
पारिवारिक सुख की दृष्टि से यह गोचरावधि विगत गोचरावधि की तुलना में बेहतर व्यतीत होनी चाहिए। गृहक्लेश में कुछ हद तक कमी आएगी, परन्तु अभी भी बिना कारण के घर में विवाद उत्पन्न हो सकते हैं। वाणी एवं व्यवहार पर संयम रखने की आवश्यकता है। घर में किसी सदस्य के स्वास्थ्य को लेकर भी चिन्ता हो सकती है। कुटुम्बियों से भी परेशानी हो सकती है। मांगलिक कार्य होने के योग बन रहे हैं। विवाह एवं सन्तान के इच्छुक व्यक्तियों की इच्छाएँ पूर्ण होने की सम्भावना है। सामाजिक मान-प्रतिष्ठा की दृष्टि से समय कुछ बेहतर है, परन्तु अभी भी सतर्कता बरतने की आवश्यकता है।
धन-सम्पत्ति की दृष्टि से शनि का मकर राशि में गोचर कुछ राहतकारी सिद्ध होगा। आकस्मिक खर्चे कम होंगे, वहीं आय प्राप्ति में आ रही बाधाएँ भी काफी हद तक दूर होंगी। भूमि-भवन आदि खरीदने के योग बन रहे हैं, परन्तु इस सम्बन्ध में सतर्कता रखें।
नौकरीपेशा वालों के लिए शनि का यह गोचर मध्यम फलप्रद है। कार्यालय में स्थितियॉं काफी हद तक अनुकूल होंगी। उच्चाधिकारियों एवं सहकर्मियों से सम्बन्धों में सुधार होगा तथा कार्याधिक्य की समस्या का भी कुछ हद तक निदान होगा, परन्तु समय अभी भी इतना अनुकूल नहीं है कि आप लापरवाह हो जाएँ। अपने कार्यों एवं दायित्वों के प्रति गम्भीरता बनाए रखें और सतर्कतापूर्वक कार्यों का निस्तारण करें। नियमों का उल्लंघन अभी भी घातक सिद्ध हो सकता है।
व्यवसासियों के लिए शनि का यह गोचर विगत गोचरावधि की तुलना में बेहतर व्यतीत होना चाहिए। व्यवसाय में आ रही बाधाएँ काफी हद तक दूर होंगी और व्यापार विस्तार की योजनाएँ भी बनेंगी। पूर्व में किए गए किसी धन निवेश से लाभ होगा।
बेरोजगार लोगों के लिए भी इस गोचरावधि में कुछ अनुकूलता प्राप्त हो सकती है। सतत प्रयास करने की आवश्यकता है। बिना परिश्रम के शनि केवल भाग्य के सहारे फल नहीं देने देगा। अधिक परिश्रम ही कुछ प्राप्ति के लिए एक मात्र उपाय है।
अध्ययन की दृष्टि से शनि का मकर राशि में गोचर पूर्व गोचर की तुलना में बेहतर व्यतीत होना चाहिए। अध्ययन में आ रही बाधाएँ दूर होंगी। साथ ही, भाग्य का भी सहारा मिलेगा, जिससे परीक्षा परिणाम भी बेहतर आने लगेंगे। प्रतियोगिता परीक्षार्थियों को भी शुभ समाचारों की प्राप्ति होगी।
राहतकारी उपाय : धनु राशि वालों के लिए शनि का मकर राशि में गोचर उतरती साढ़ेसाती के रूप में रहेगा। इसके अशुभ फलों में कमी के लिए निम्नलिखित उपाय करने चाहिए :
1. सातमुखी रुद्राक्ष सोमवार अथवा किसी शुभ मुहूर्त में गले में धारण करना चाहिए।
2. ‘ॐ प्रां प्रीं प्रौं स: शनये नम:’ मन्त्र की नित्य एक माला का जप करना चाहिए।
3. शनैश्‍चरी अमावस्या पर एक पाव (250 ग्राम) तिली का तेल लोहे के किसी चौड़े पात्र में सूर्योदय से पूर्व अथवा सूर्यास्त के पश्‍चात् भरकर उसमें अपना मुख देखें और किसी असहाय व्यक्ति को पात्र सहित दान कर दें।
4. भगवान् शिव एवं हनूमान् जी की उपासना करें।