कैसा रहेगा मकर का शनि कर्क राशि के लिए?

Saturn Transit
कर्क राशि
(ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो)

कर्क राशि वालों के लिए शनि का मकर राशि में गोचर मध्यम फलदायक रहना चाहिए। विगत गोचरावधि में जो अनुकूल फल प्राप्त हो रहे थे, वे मकर गोचरावधि में कम होंगे और पारिवारिक एवं स्वास्थ्य सम्बन्धी कुछ समस्याएँ बढ़ सकती हैं। कार्यक्षेत्र में बाधाओं से सम्बन्धित समस्याएँ भी उत्पन्न हो सकती हैं।
स्वास्थ्य की दृष्टि से शनि का मकर राशि में गोचर मध्यमफलप्रद है। स्वभाव में कुछ झुंझलाहट बढ़ सकती है, वहीं उदर अथवा उससे नीचे के अंगों में तकलीफ की आशंका है।
पारिवारिक सुख की दृष्टि से यह गोचरावधि बहुत अनुकूल फलप्रद नहीं है। गृहक्लेश में वृद्धि हो सकती है। साथ ही, किसी परिजन के स्वास्थ्य को लेकर भी परेशानी हो सकती है।
धन-सम्पत्ति की दृष्टि से शनि की मकर राशि में गोचरावधि आपके लिए शुभफलदायक नहीं रहनी चाहिए। खर्चों में वृद्धि के कारण संचित जमापूँजी भी प्रभावित हो सकती है। आय के स्रोतों से आय की प्राप्ति में भी अनियमितता परेशान कर सकती है। इसके अतिरिक्त अनुत्पादक व्ययों की अधिकता से आपकी आर्थिक स्थिति भी प्रभावित हो सकती है। इस गोचरावधि में स्थायी सम्पत्ति में वृद्धि के योग कम बन रहे हैं। जहॉं तक चल सम्पत्ति में वृद्धि का प्रश्‍न है, तो उसकी वृद्धिदर विगत गोचरावधि की तुलना में कम रहेगी।
नौकरीपेशा वालों के लिए यह गोचरावधि शुभाशुभ फलदायक है। यदि आप प्रमोशन के लिए इन्तजार कर रहे हैं, तो उसमें विलम्ब हो सकता है। वेतन-वृद्धि आदि भी सामान्य रहेंगी। उच्चाधिकारियों से सम्बन्ध यद्यपि खराब तो नहीं रहेंगे, परन्तु उनसे किसी विशेष लाभ की उम्मीद करना बेमानी है। सहकर्मियों से अपेक्षित सहयोग न मिल पाने से मन दु:खी रहेगा।
व्यवसायियों के लिए यह गोचरावधि सामान्यफलप्रद है। विशेष परिवर्तन की उम्मीद नहीं है, परन्तु लाभ में वृद्धिदर अथवा व्यवसाय में उन्नति की दर कुछ कम होती हुई दिखाई देगी। व्यवसाय विस्तार की योजनाएँ तो बनेंगी, परन्तु उनका क्रियान्वयन अपेक्षानुरूप न हो पाने का मलाल रहेगा। यदि आप साझेदारी में व्यवसाय कर रहे हैं, तो साझेदार से सम्बन्ध कुछ कटु हो सकते हैं। इसके अतिरिक्त आपके प्रमुख सप्लायरों अथवा ग्राहकों से भी कुछ अनबन हो सकती है। सरकारी निर्णयों के कारण भी आपका व्यवसाय अथवा लाभ प्रभावित हो सकता है।
शिक्षा की दृष्टि से शनि की मकर राशि में गोचरावधि सामान्यफलप्रद रहनी चाहिए। अध्ययन में कुछ बाधाएँ आ सकती हैं, परन्तु परीक्षा से पूर्व आवश्यक तैयारी सम्भव हो पाएगी, जिससे परीक्षा परिणाम बहुत प्रभावित नहीं हो पाएँगे। प्रतियोगिता परीक्षार्थी भी अपनी मेहनत के अनुरूप कुछ हद तक परीक्षा परिणाम प्राप्त कर पाएँगे।
राहतकारी उपाय : जन्मराशि से सप्तमभावस्थ शनि का यह गोचर आपके लिए बहुत अधिक शुभफलप्रद नहीं है, इसलिए निम्नलिखित उपाय करने चाहिए :
1. सातमुखी रुद्राक्ष सोमवार अथवा किसी शुभमुहूर्त में गले में धारण करना चाहिए।
2. ‘ॐ शं शनैश्‍चराय नम:।’ मन्त्र का प्रतिदिन जप करना चाहिए।
3. भगवान् शिव की पूजा-उपासना करनी चाहिए।
4. वृद्धों एवं रोगियों की सेवा करनी चाहिए।
5. सदाचरण का पालन करना चाहिए।
6. कौओं को सूर्योदय से पूर्व बासी रोटी डालें।