कैसा रहेगा गुरु का राशि परिवर्तन मकर राशि के लिए?

Jupiter Transit गुरु का धनु राशि में गोचर

मकर
(भो, जा, जी, जू, खी, खू, खो, गा, गी)
मकर राशि वालों के लिए गुरु का धनु राशि में गोचर जन्मराशि से द्वादश भाव में रहेगा। द्वादश भाव में गुरु का गोचर सामान्यत: अशुभफलप्रद रहता है। इसके फलस्वरूप आकस्मिक समस्याएँ उत्पन्न होती हैं। विभिन्न क्षेत्रों में अवरोध एवं समस्याओं से प्रगति बाधित होती है। स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएँ रह सकती हैं। इस दौरान खान-पान एवं दिनचर्या के सम्बन्ध में सावधानी रखने की आवश्यकता है। पाचन एवं उत्सर्जन तन्त्र से सम्बन्धित रोगों के प्रति आप सावधानी रखें। इस गोचरावधि में न केवल स्वयं के वरन् परिजनों के स्वास्थ्य का भी ध्यान रखना आवश्यक है। इस दौरान पारिवारिक समस्याओं में वृद्धि हो सकती है। परिवार में आपका विरोध बढ़ सकता है और घर में अशान्ति का वातावरण रह सकता है। सामाजिक मान-प्रतिष्ठा की दृष्टि से भी सावधानी रखनी चाहिए। अपमान एवं अपयश की परिस्थितियॉं उत्पन्न हो सकती हैं। वाणी, व्यवहार एवं आचरण की दृष्टि से सावधानी रखनी चाहिए। गुप्त शत्रुओं एवं षड्‌यंत्र से परेशानी का अनुभव हो सकता है। इस गोचरावधि में आर्थिक स्थिति प्रभावित हो सकती है। खर्चों में वृद्धि के कारण आर्थिक तंगी का अनुभव होगा। धन एवं सम्पत्ति से सम्बन्धित मामले उलझ सकते हैं। नौकरी एवं व्यवसाय में भी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। उच्चाधिकारियों से सम्बन्धों में तनाव हो सकता है और ट्रांसफर अथवा अन्य प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। व्यवसायियों के लिए भी फर्म या कम्पनी की अंदरूनी समस्याएँ परेशान कर सकती हैं। सरकारी मामले भी उलझ सकते हैं। साझेदारी आदि से सम्बन्धित मामलों में सावधानी रखने की आवश्यकता है।