कैसा रहेगा गुरु का राशि परिवर्तन धनु राशि के लिए?

Jupiter Transit गुरु का धनु राशि में गोचर

धनु
(ये, यो, भा, भी, भु, धा, फ, ड, भे)
जन्मराशि के ऊपर से गुरु का गोचर सामान्यत: मिश्रित फलदायक होता है। यद्यपि ज्योतिषीय ग्रन्थों के अनुसार जन्मराशि के ऊपर से गुरु का गोचर अशुभफलप्रद होता है, परन्तु व्यवहार में यह कुछ क्षेत्रों में शुभफलदायक तो कुछ क्षेत्रों में अशुभफलदायक होता है। यह राशि परिवर्तन जीवन में महत्त्वपूर्ण परिवर्तन लेकर आकर आता है। ये परिवर्तन शुभ भी हो सकते हैं और अशुभ भी। सामान्यत: जन्मराशि के ऊपर से गुरु का गोचर कार्यों में बाधाएँ देता है और स्वास्थ्य आदि के क्षेत्र में भी परेशानी देता है, दूसरी ओर वह व्यक्ति के स्वभाव में सकारात्मक दृष्टिकोण देता है। धार्मिक एवं मानवीय प्रवृत्ति में वृद्धि करता है। सन्तान से सम्बन्धित मामलों में तथा विवाह आदि क्षेत्रों में इसके शुभफल प्राप्त होते हैं। इस दौरान उदर आदि रोगों के प्रति सावधानी रखने की आवश्यकता है। पारिवारिक विवाद बढ़ सकते हैं। पैतृक अथवा संयुक्त परिवार से दूर रहने की परिस्थितियॉं बन सकती हैं। सामाजिक मान-प्रतिष्ठा की दृष्टि से भी सावधानी रखने की आवश्यकता होती है। इस दौरान अपने आचार-व्यवहार को नियन्त्रित करने की आवश्यकता है।
खर्चों में वृद्धि के कारण आर्थिक स्थिति प्रभावित हो सकती है। इन दिनों जोखिमपूर्ण धन-निवेश से बचना चाहिए तथा उधार आदि देने में भी सावधानी रखनी चाहिए। नौकरीपेशा वर्ग के कार्यों-दायित्वों एवं शक्ति में वृद्धि के योग बन रहे हैं। उच्चाधिकारियों के निकटता के अवसर आएँगे। कार्यों के प्रति लापरवाही का दृष्टिकोण नहीं चलेगा। व्यवसायियों के लिए भी सरकारी नियमों एवं कानूनों की दृष्टि से समय सावधानी की अपेक्षा कर रहा है। इस अवधि में उधार आदि देने से बचें। नवीन क्षेत्रों में व्यवसाय के अवसर आ सकते हैं। नए लोगों के साथ व्यवसाय की सम्भावना है।