अंक 8 के रहस्यमयी विधान

अंक ज्‍योतिष

शृंखला के विगत लेखों में 1 से 7 मूलांकों का अध्ययन करने के पश्‍चात् प्रस्तुत लेख में मूलांक 8 के फलों का वर्णन किया जाएगा| जिन व्यक्तियों के जन्मदिनांक का कुल योग 8 होता हो, उन व्यक्तियों का मूलांक 8 होता है| जैसे किसी की जन्मतिथि 9.4.1966 है, तो उसका सम्पूर्ण योग 8 होगा|
मूलांक 8 वाले व्यक्तियों का स्वभाव
मूलांक 8 वाले व्यक्ति स्वभाव से प्रत्येक बात को गहराई से समझने में प्रवीण होते हैं| उनका व्यक्तित्व प्रभावशाली होता है और वे अपने जीवनकाल में कई व्यक्तियों के लिए महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं, जिससे उनकी उन्नति होती है| कभी-कभी वे दूसरों द्वारा भ्रान्तिपूर्ण भावनाओं और गलतफहमियों के शिकार हो जाते हैं| मूलांक 8 वाले व्यक्ति कट्टर स्वभाव के होते हैं| अपने विचारों में विरोध की परवाह नहीं करते| इस कारण उनके अनेक शत्रु बन जाते हैं| सताए हुए लोगों के लिए इनके हृदय में गहरी सहानुभूति और हमदर्दी होती है| क्रोध आ जाने पर वे शत्रु का समूल नाश किए बिना चैन नहीं लेते|
मूलांक 8 वाले व्यक्ति अत्यन्त परिश्रमी, उत्साही, धनी, लगनशील, स्पष्टवादी, निर्भीक और निडर होते हैं| वे अन्तर्मुखी स्वभाववश बाह्य प्रदर्शन की भावना नहीं होने से शुष्क और कठोर समझे जाते हैं, परन्तु वास्तव में वे उच्चाभिलाषी एवं महत्त्वाकांक्षी होते हैं तथा किसी बात की भी परवाह नहीं करते| मूलांक 8 वाले व्यक्ति या तो उन्नति के सर्वोच्च शिखर पर होंगे या पतन के गहरे गर्त में| इनकी बात न्यायसंगत, ठोस और प्रामाणिक होती है| फूहड़पन, अनुशासनहीनता, गन्दगी और भद्दा मजाक इन्हें पसन्द नहीं होता है| दिखावा, बनावटीपन, आडम्बर आदि से ये दूर रहते हैं|
मूलांक 8 वाले व्यक्तियों के अवगुण
मूलांक 8 का स्वामी शनि होता है| शनि कठोर परिश्रमी, कुरूप और एकान्तवासी होता है| इसे अशुद्ध विचार वाला, कुकर्म करने वाला भी माना जाता है| शनि को कष्टकारक, धन को दबाने वाला, चोरी आदि अनैतिक कार्यों को करने वाला भी माना गया है| स्वभाव से दृढ़ विचार और हठी स्वभाव वाला होता है| साथ ही इसके स्वभाव में दुराग्रह और सनकीपन भी देखा जाता है|
मूलांक 8 वाले व्यक्तियों को पीड़ित करने वाले मानसिक और शारीरिक रोग
मूलांक 8 वाले व्यक्तियों को धातुप्रदर रोग, खुजली, दाद, पेटदर्द, गर्भ रोग, वायु रोग, वात रोग, आँव रोग, मलबद्धता, गठिया रोग, शरीर क्षीणता, आँत रोग, रक्तचाप, हृदय रोग इत्यादि से पीड़ा होने की सम्भावना बनती है|
मूलांक 8 वालों के लिए अनुकूल कार्य और व्यवसाय
मूलांक 8 वालों के लिए कारखाना, वन विभाग, पुलिस, यातायात विभाग, सार्वजनिक निर्माण विभाग, ऊँट, घोड़ा से सम्बन्धित बोझा ढोने का कार्य, नेतागिरी, लोहा, कोयला, पत्थर, संगमरमर, प्रिंटिंग प्रेस, खाद, सरसों तेल व्यापार, पशुपालन, आपूर्ति विभाग, सीमेन्ट और चीनी का कारोबार, कॉंच के बर्तन, अग्निशमन विभाग, बीमा, अन्न, चमड़ा के कार्य, खनिज पदार्थ, कारागार, दण्ड, राजनीति, गुप्तचर इत्यादि कार्यों में सफलता प्राप्त होने की सम्भावना होती है|
अन्य मूलांक वाले व्यक्तियों से सम्बन्ध
मूलांक 8 से सम्बन्धित व्यक्तियों को मूलांक 1 वालों से परेशानियॉं रहती हैं| मूलांक 2 के जातक अनुकूल और शुभत्व प्रदान करेंगे| मूलांक 3 वाले व्यक्तियों के साथ शत्रुतापूर्ण व्यवहार रहता है| मूलांक 4 वालों से अनुकूल व्यवहार तथा मूलांक 5 वाले जातकों से मित्रवत् व्यवहार होता है| मूलांक 6 वाले व्यक्ति इनके प्रबल सहयोगी एवं सहायक होते हैं| मूलांक 7 वाले व्यक्ति शुभ और अनुकूल रहते हैं| समान मूलांक वाले व्यक्ति आपके प्रबल विरोधी और शत्रु होते हैं| जन्मांग 9 वाले जातक आपके प्रति ईर्ष्यालु भावना रखते हैं|
मूलांक 8 वालों के लिए अनुकूल तिथियॉं
मूलांक 8 वालों के लिए अनुकूल तिथियॉं 8, 17, 26, 4, 13, 22, 31, 6, 15, 24, 5, 14, 23 होती हैं| 21 दिसम्बर से 19 फरवरी तक और 21 सितम्बर से 19 अक्टूबर का समय भी इनके लिए अनुकूल होता है|
मूलांक 8 वालों के लिए प्रतिकूल तिथियॉं
मूलांक 8 वालों के लिए किसी भी माह की 1, 1०, 19, 28, 9, 18 और 27 तारीखें प्रतिकूल रहती हैं|
मूलांक 8 वालों के लिए अनुकूल-प्रतिकूल दिवस
मूलांक 8 वालों के लिए रविवार, सोमवार और शनिवार शुभ, मंगलवार प्रतिकूल तथा शेष वार सामान्य फलकारी होते हैं|
मूलांक 8 वाले व्यक्तियों के लिए अनुकूल-प्रतिकूल माह
मूलांक 8 वाले व्यक्तियों के लिए फरवरी, अप्रैल, मई, जून, जुलाई, अगस्त माह अनुकूल तथा दिसम्बर, जनवरी, मार्च, सितम्बर, अक्टूबर माह अशुभ और प्रतिकूल होते हैं|
मूलांक 8 वाले व्यक्तियों के लिए शुभ रंग
मूलांक 8 वालों के लिए काला, हल्का नीला, सफेद, भूरा एवं बैंगनी रंग शुभ होता है|
मूलांक 8 वाले व्यक्तियों के लिए शुभ रत्न
मूलांक 8 वालों के लिए नीलम, काकानीली, कटैला रत्न धारण करना शुभ होता है|
मूलांक 8 वालों के लिए शुभ धातु : लोहा|
मूलांक 8 वालों के लिए शुभ पूजा, व्रत, दान-पुण्य
मूलांक 8 के स्वामी शनिदेव हैं| ‘ॐ शं शनैश्‍चराय नम:’ मंत्र शनि का मन्त्र है, अत: शनि के प्रसन्नार्थ इस मन्त्र का जप करना चाहिए|
शनिवार का व्रत रखना भी शुभ होता है| व्रत में एक समय भोजन करें| साथ ही तेल, तिल, लौहधातु, उड़द और काले वस्त्रों का दान दें|
मूलांक 8 के लिए शुभ यन्त्र
मूलांक 8 वाले व्यक्तियों को किसी भी प्रकार के अहित से बचने के लिए निम्नलिखित यन्त्र को भोजपत्र पर अथवा लोहे पर उत्कीर्ण कर धारण करना चाहिए| •- डॉ. भगवानसहाय श्रीवास्‍तव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *