10 महादान

आज की टिप्‍स

10 वस्तुएँ महादान के अन्तर्गत मानी गई हैं| इनका दान करने से पितृगणअत्यन्त संतुष्ट होते हैं|
<strong>1. गौदान :</strong> गौदान को दस महादान में प्रमुख माना गया है|
<strong>2. भूमिदान :</strong> भूमिदान के निमित्त यदि आप सक्षम हैं, तो किसी गरीब व्यक्ति को रहने हेतु थोड़ी भूमि का दान कर सकते हैं| इसके अतिरिक्त सामान्य स्थिति में मिट्टी का एक ढेला दान हेतु थाली में रखें और संकल्प करके दक्षिणा सहित ब्राह्मण को दान कर दें|
<strong>3. तिलदान :</strong> तिल दान में काले तिलों का दान करना चाहिए|
<strong>4. स्वर्णदान :</strong> स्वर्ण के अभाव में तन्निमित्त दक्षिणा का भी दान कर सकते हैं|
<strong>5. घृतदान :</strong> इस हेतु गौघृत पात्र सहित दान करना चाहिए|
<strong>6. वस्त्रदान :</strong> इसके अन्तर्गत वस्त्र एवं उपवस्त्र के निमित्त दो अलग-अलग वस्त्र जो कि कहीं से कटे-फटे, पुराने या पहने हुए नहीं हों, दान करें|
<strong>7. धान्यदान :</strong> इसके अन्तर्गत गेहूँ, चावल या अन्न कोई धान्य, ससंकल्प दान करें|
<strong>8. गुड़दान :</strong> गुड़ का दान करना भी लाभदायक होता है|
<strong>9. रजतदान :</strong> चॉंदी के दान से पितृगण आशीर्वाद प्रदान करते हैं|
<strong>10. लवण (नमक) दान :</strong> नमक दान करने से पितृगण संतुष्ट होते हैं|
ब्राह्मण भोजन और यह दान करने के पश्‍चात् निम्नलिखित श्‍लोक का उच्चारण करें और भगवान् विष्णु का तीन बार नाम लेते हुए किया गया दान पूर्ण बनाने की प्रार्थना करें :
<strong>यस्य स्मृत्या च नामोक्त्या तपोयज्ञक्रियादिषु|
न्यूनं सम्पूर्णतां याति सद्यो वन्दे तमच्युतम्‌॥</strong>