Wednesday, October 17, 2018

आज की ‘TIPS’

पंचांग एवं मुहूर्त

स्‍तोत्रायन

ज्‍योतिष

कहीं आपकी जन्मपत्रिका में तो नहीं जेल जाने के योग? - प्रकाशन तिथि : 20 मई, 2009 जैसे ही मैंने सुना कि मनोहर को पुलिस पकड़ कर ले गई, तो मैं स्तब्ध रह गया| मुझे तो विश्‍वास ही नहीं हुआ| जो व्यक्ति एक चींटी को भी नहीं मार सकता, वह कैसे कोई अपराध कर सकता है| अपराध भी ऐसा, जो पुलिस पकड़ ले जाए| मनोहर मेरा बचपन का मित्र है| मेरे घर से अगली गली में ही उसका घर है| मैं उससे 4-5 दिन पूर्व ही मिला था, लेकिन उसने इस तरह की कोई बात मुझे नहीं बतायी थी| हॉं! इतना अवश्य मुझे पता था कि अपनी पत्नी के साथ उसके Continue Reading

खोज-खबर

और दीवार चल पड़ी … - योगियों के चमत्कारों की कथाएँ अपार हैं| ऐसी ही एक चमत्कारयुक्त कथा उत्तरप्रदेश के गाजीपुर क्षेत्र के सिद्धयोगी भीखाभाई के बारे में प्रचलित है| एक दिन भीखाभाई प्रात:काल अपने नित्यकर्म Continue Reading

मानो या न मानो भूतों का भानगढ़ - सुनने में अविश्‍वसनीय लगता है, लेकिन राजस्थान के अलवर जिले में एक स्थान ऐसा भी है, जहॉं आज भी भूतों का वास है और इतना ही नहीं, रात्रि के समय Continue Reading

13 शुभ अथवा अशुभ - Published : January, 2010 23 सितम्बर, 2009 को भारतीय अन्तरिक्ष अनुसंधान संगठन द्वारा आन्ध्रप्रदेश में श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अन्तरिक्ष केन्द्र से प्रक्षेपित किए गए ओशनसैट-2 को जिस पोलर सैटेलाइट Continue Reading

वास्‍तु

ऐसे करें पहाड़ी क्षेत्रों में भवन निर्माण - हमारे देश के उत्तर और पूर्व का काफी बड़ा भू-भाग पर्वत शृंखलाओं से आच्छादित है| जहॉं पर देश की बड़ी आबादी-निवास करता है| ऐसे पहाड़ी क्षेत्रों पर भवन निर्माण के लिए ज्यादातर भूखण्ड ढलान वाले ही उपलब्ध होते हैं, जिनकी ढलान किसी भी दिशा में हो सकती है| ऐसे पहाड़ी स्थानों पर भवन बनाने के लिए भूखण्ड खरीदते समय वास्तु सिद्धान्तों का पालन करना चाहिए, ताकि उस स्थान पर वास्तु के अनुरूप भवन बनाकर सुखद जीवन व्यतीत किया जा सके| 1. किसी भी पहाड़ी स्थान पर भूखण्ड उसी जगह खरीदें, जहॉं पूर्व और उत्तर दिशा की ओर ढलान हो| उत्तर Continue Reading

तन्‍त्र-मन्‍त्र-यन्‍त्र

20 दिन में मिलेगी धन समृद्धि - Published : October, 2008 आवश्यक सामग्री : दक्षिणावर्ती शंख, अक्षत, दो लाल कपड़े, चौकी, लाल चन्दन| शुभ मुहूर्त : विजयादशमी को सायंकाल| प्रयोग अवधि : 20 दिन| प्रयोगविधि : विजयादशमी को सायंकाल एक चौकी पर लाल वस्त्र बिछाकर दक्षिणावर्ती शंख की स्थापना करें| 108 अक्षत लेकर उन पर चन्दन लगाएँ| Continue Reading

क्या करें विजयादशमी पर … - अपराजिता पूजा अपराजिता देवी यात्रा-कार्यों में सफलता और युद्ध-प्रतिस्पर्द्धा में विजय दिलाने वाली देवी है| विजयादशमी पर इसकी पूजा की जाती है| कहॉं होगी पूजा? : ग्राम, मोहल्ला या कॉलोनी के बाहर ईशान दिशा में पूजा होती है| कब होती है पूजा? : अपराजिता की पूजा सायंकाल होती है| किनकी Continue Reading

20 दिन में मिलेगी धन समृद्धि - Published : October, 2008 आवश्यक सामग्री : दक्षिणावर्ती शंख, अक्षत, दो लाल कपड़े, चौकी, लाल चन्दन| शुभ मुहूर्त : विजयादशमी को सायंकाल| प्रयोग अवधि : 20 दिन| प्रयोगविधि : विजयादशमी को सायंकाल एक चौकी पर लाल वस्त्र बिछाकर दक्षिणावर्ती शंख की स्थापना करें| 108 अक्षत लेकर उन पर चन्दन लगाएँ| Continue Reading

धर्म-उपासना

अदम्य शक्ति है अग्निहोत्र में - स्वस्थ और नीरोगी जीवन के लिए शुद्ध हवा, स्वच्छ जल, अप्रदूषित अन्न और फल आदि की आवश्यकता होती है, लेकिन मानव की भोगलिप्सा इन सुलभ चीजों को अब दुर्लभ बना रही है| आज प्रकृति बहुत अंशों में प्रदूषित हो चुकी है| प्रदूषण से प्रकृति को कैसे मुक्त बनाया जाए? इसके Continue Reading

आदि शंकराचार्य के बाद शंकराचार्य - Published : April, 2009 जैसा कि हम जानते हैं आद्यगुरु शंकराचार्य जी ने सनातन धर्म के कल्याणार्थ सम्पूर्ण भारत में पृथक्-पृथक् दिशाओं में चार मठों की स्थापना की| ये मठ हैं : 1. वेदान्त ज्ञानमठ, शृंगेरी (दक्षिण भारत) 2. गोवर्धन मठ, जगन्नाथपुरी (पूर्वी भारत) 3. शारदा (कालिका) मठ, द्वारका (पश्‍चिम Continue Reading